Computer kya hai | Computer क्या है

Computer विज्ञान युग की एक विशेष देन है. आज के इस पोस्ट में हम Computer क्या है और इसका उपयोग कैसे और कहाँ किया जाता है उसके बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे. इसकी लोकप्रियता के कारण व्यापार जगत ने काफ़ी लाभ उठाया है. आज के व्यापार जगत के एलावा हर क्षेत्र में computer एक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है. आज लगभग हर स्कूल एवं कॉलेज में computer एक लाज़मी विषय के तौर पर पढ़ाया जा रहा है. रोज़गार, दफ़्तरी कामकाज में computer एक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है. इस आर्टिकल में हम detail में हम जानेंगे कि computer क्या है? 

computer kya hai,computer ke upyog
Computer क्या है 

Computer क्या है 


Computer शब्द का जन्म compute शब्द से हुआ है जिसका अर्थ है गणना करना. Computer एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है जो हाथों का इस्तेमाल किए बिना कठिन से कठिन सूचनाओं का शोध करके उन्हें हल करने की क्षमता रखता है. घरों और दफ्तरों में आमतौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले computer को PC (Personal computer) कहा जाता है.

Computer की full form 

Computer की full form इस तरह है

C - Commonly
O - Operated
M - Machine
P - Particularly
U - Used for
T - Technology
E-Education
R - and Research

Computer के हिस्से (Parts of computer)


सबसे पहले हम computer के बाहर से दिखने वाले हिस्सों (components) के बारे में जानकारी हासिल करते है. मूल रूप से computer में एक CPU(सीपीयू), एक monitor, एक mouse और एक keyboard होता है. कुछ computers में ज्यादा हिस्से जैसे स्पीकर(Speaker), माइक्रोफोन(microphone), हैडफ़ोन (headphone) आदि भी होते है. यह हिस्से हमें कंप्यूटर का उपयोग कुछ अन्य काम करने के लिए सुविधा मुहईआ करवाते है. Computer के जरुरी और optional हिस्सों के बारे में हम इस अध्याय में उल्लेख करेंगे लेकिन उससे पहले हम एक साधारण computer के जरुरी parts के बारे बात करेंगे.

CPU (Central processing unit):- Computer का CPU आमतौर पर एक बड़े बक्से की तरह होता है जो अलग-अलग छोटे के सुमेल (combination) से त्यार होता है जैसे कि motherboard, Hard-Disk, Floppy Disk Drive, Processor, RAM, Sound card आदि लगे होते है.

मॉनिटर (Monitor):- टेलीविज़न से मिलता जुलता यह यंत्र computer का output दर्शाता है. मॉनिटर monochrome (black and white), LCD(liquid crystal display), LED, VGA या SVGA आदि किस्मों का होता है. इसके एलावा मॉनिटर analog या digital दोनों तरह का हो सकता है.

Mouse:- यह छोटा उपकरण हमारी हथेली की पकड़ में बड़ी आसानी से आ जाता है. इसमें दो या तीन बटन होते है. इसके द्वारा हम अपनी मर्ज़ी से मन चाहा काम कर सकते है. Mouse एक input device है जिसके द्वारा computer को command दी जाती है और monitor से output प्रापत होती है.

Keyboard:- यह भी एक input device है जो किसी typewriter के नीचे वाले हिस्से की तरह दिखता है. इसके ऊपर computer में typing करने के लिए keys बनी होती है. इसके ऊपर सभी अक्षर,अंक या सूत्र दिए गए है . आमतौर पर keyboards के दो मॉडल मिलते है

1. 83-84 keys वाला standard मॉडल

2. Enhanced model - यह ज्यादा लोकप्रिय है, इसमें 104 या इससे भी ज्यादा keys दी गई होती है.


Computer के उपयोग (Uses of computer in Hindi)


आज मनुष्य के जीवन में computer एक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है. Computer का उपयोग करके जीवन को खुशहाल बनाया जा सकता है. आज के युग में हम कंप्यूटर का महात्तम जानने के लिए एक छोटा सा उदहारण लेते है जैसे कि किसी कंपनी का accounting system. अगर हम पुरानी तकनीक से कंपनी की balance sheet बनाने लग पड़े तो तक़रीबन एक महीना लग जाएगा जबकि computer पर काम करने से यह काम कुछ ही घंटो में हो जाएगा. हाथ से बनाई गई balance sheet में गलतियां होने की ज्यादा सम्भावना रहती है और इनमें सुधार करना इतना आसान नहीं होता लेकिन इस balance sheet को अगर computer पर बनाया जाए तो गलतियां होने की सम्भावना ना के बराबर होती हैं. अगर गलतियां रह भी जाती है तो उनको बिना दुबारा balance sheet बनाए ठीक किया जा सकता है.

Medical क्षेत्र में Computer का उपयोग 

Computer पर किए जाने वाले सभी काम हाथ से भी किए जा सकते है लेकिन इसमें बहुत समय और मेहनत लगती है. इलाज के क्षेत्र में computer द्वारा निभाई जाने वाली भूमिका का भी कम महत्त्व नहीं है. प्रत्येक रोगी के रोग से सम्बंधित सारी details अगर computer memory में save की गई हों तो डॉक्टर को किसी रोगी के बारे में सूचना इकट्ठी करने के लिए कागज़ के ढेर में उलझना नहीं पड़ता. वो mouse को एक बार क्लिक करके मरीज़ के बारे में सारी details का पता लगा सकता है.

घरों में कंप्यूटर का उपयोग 

घरों में भी computer अनेक लोगों के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है. माता पीता अपने रोज़ाना घरेलू खर्च का हिसाब किताब रखने, जन्म दिन, शादी ब्याह आदि जैसे महत्त्वपूर्ण मौकों की तरीकों का रिकॉर्ड संभाल कर रख सकते है. इसके एलावा शादी ब्याह की photos और videos को save करके रखा जा सकता है.

कंप्यूटर का शिक्षा में उपयोग 

विद्यार्थियों के लिए भी computer बहुत फायदेमंद साबित हुए है. वह computer का उपयोग अपने notes और projects त्यार करने के लिए करते है.Internet से जानकारी के इलावा विद्यार्थी online शिक्षा और आने वाली परीक्षाओं की त्यारी भी कर सकते है.

Boring subjects को रौचक और आसान बनाने के लिए graphics और animations का प्रयोग किया जा सकता है. Computer में मौजूद अनेकों सुविधाओं का इस्तेमाल करके अपनी सिर्जनात्मक प्रतिभा (Creativity) को निखारा जा सकता है.

Easy Communication 

भारत जैसे विकासशील देश में साधारण व्यक्ति के PC की बढ़ती लोकप्रियता का कारण है E-mail, whatsapp, facebook और अन्य सोशल प्लैटफॉर्म्स जिनसे मिनटों में दुनिया के किसी भी कोने में बैठे व्यक्ति से जुड़ा जा सकता है क्यूंकि बहुत ही कम खर्च के साथ किसी भी दोस्त या रिश्तेदार से text messaging, voice call या वीडियो काल से सीधा संपर्क बनाया जा सकता है. Internet chatting, voice और वीडियो call एक ऐसी सुविधा है जो बच्चों से लेकर बजुर्गो तक सबको आकर्षित करती है.

Computer से हम संसार भर की सारी खबरें प्राप्त कर सकते है.

मनोरंजन के लिए कंप्यूटर का उपयोग 

Computer का उपयोग केवल गंभीर कामों के लिए ही नहीं किया जाता.इसमें मनोरंजन के साधन जैसे कि games, cartoons, films, music आदि की सुविधा भी उपलब्ध रहती है. Music files के लिए बने compressed file format, MP3 द्वारा बिना अधिक memory की खपत किए hard disk में हज़ारों गाने save करके रखे जा सकते है. Movies देखने के लिए हमें internet से जुड़ने की जरुरत भी नहीं पड़ती VCD चलाकर computer पर movie देखी जा सकती है बल्कि save करके भी रखी जा सकती है.

Computer पर परिवार के लोग अपने लिए बजट बना सकते है, films देख सकते है, games खेल सकते है या कोई नया काम जैसे कि design बनाना, cartoon बनाना, लेख लिखना आदि भी किया जा सकता है. Computer के माध्यम से घरेलू औरतें किसी भी किस्म का काम जो internet पर मौजूद है करके घर बैठे पैसा कमा सकती है.

Online पैसा कमाने के लिए Computer  का उपयोग 

Computer की मदद से freelancing, blogging, affliate marketing आदि कैसे काम करके लाखों रुपए कमाए जा सकते है.

Computer की memory (Memory of computer in Hindi)


Computer पर किए जाने वाले हर काम के पीछे लगने वाला दिमाग़ होने के बावज़ूद CPU को वो डाटा देना पड़ता है जिसको हम प्रोसेस करना चाहते है और CPU को निर्देश दिए जाते है कि वो इस डाटा के साथ क्या करे. दिए गए निर्देशों को पूरा करने के बाद वो प्रोसेस किए गए डाटा को अपनी memory में save कर लेता है. System की memory मुख्य तौर पर दो तरह की होती है

1. Random acess memory (RAM)

2. Read only memory (ROM)

1. Random acess memory (RAM):- यह computer द्वारा उपयोग की जाने वाली सबसे महत्त्वपूर्ण memory है. इसकी समर्था को हमेशा mega bytes (MB) में मापा जाता है. इस किस्म की memory का इस्तेमाल डाटा और application programs को save करने के लिए किया जाता है.यह memory read-write है  और अस्थिर (volatile)होती है जिसका मतलब है system को बंद (off) करने के बाद सारा डाटा बरबाद हो जाता है. आजकल computer system पर मुख्य तौर पर दो किस्म की RAM का उपयोग किया जाता है.

1. Dynamic RAM

2. Static RAM

2. Read only memory (ROM):- इस किस्म की memory स्थाई होती है अर्थात इसमें परविर्तन नहीं किया जा सकता. Boot करते समय (अर्थात computer को हर बार switch on करने पर) ROM computer के सारे हिस्सों को संचालित करने के निर्देश देती है. ROM स्थिर होती है जिसका मतलब है system की बिजली बंद कर देने के बाद system में मौजूद डाटा गायब नहीं होता.

PROM क्या होता है 


PROM का अर्थ है - Programable read only memory और EPROM - Eraseable Programable ROM. यह एक खास किस्म की ROM है जिसको प्रयोग करने वाला भी program कर सकता है. इसको ultra-violet प्रकाश में रखने के बाद इसका डाटा मिटाया जा सकता है. EEPROM का अर्थ है Electrically eraseable programable ROM.यह एक खास किस्म की ROM है जिसको प्रयोगकर्ता द्वारा program किया जा सकता है. इसका डाटा input pin पर विशेष voltage का उपयोग करके ठीक समय पर निर्देश लागू करके मिटाया जा सकता है.

PC के हिस्से (components of Personal Computer)


Computer पर काम करने से पहले इसके अलग अलग हिस्सों (parts) द्वारा किए जाने वाले काम के बारे में जानकारी होना आवश्यक है. PC के सारे हिस्से एक team के रूप में मिलकर काम करते है. इसके कुछ हिस्से जरुरी होते है जबकि कुछ हिस्सों का इस्तेमाल इच्छा के अनुसार किया जाता है. यह हिस्से computer या PC पर किए जाने वाले कामों की गिणती को बढ़ाते है जिससे computer पर हम अपना काम और भी कुशलता और आसानी से कर सकते है. Computer के जरुरी और optional हिस्से इस प्रकार है -

जरुरी हिस्से:- प्रोसेसर (Processor), Hard Disk, RAM, Display/video card, keyboard, mouse, Drive (Hard disk, floppy disk, CD-ROM), Monitor.

Optional parts:- प्रिंटर (Printer), स्कैनर (Scanner), मॉडम (modem), डीवीडी ड्राइव (DVD Drive), स्पीकर (Speaker), ZIP drive.

Computer की अलग अलग किस्में (Types of computer in Hindi)


आधुनिक युग में अलग अलग तरह के computer बाज़ार में मौजूद है. Computers में अंतर उनके अंदर मौजूद processors (जिनको chips भी कहा जाता है) की गति के आधार पर पाया जाता है. Software company Intel ने सबसे पहले उच्च गति के processor जैसे कि P2, P3 और P4 का निर्माण किया है. इन processors को इनकी गति के आधार पर पहचाना जाता है. बाज़ार में मिलने वाले दूसरे processor Intel, Celeron, AMD Athlon, AMD Duron, Cyrix आदि है.

Computer की गति कैसे नापी जाती है 


Computer के काम करने की गति को MHz (Mega hertz या millions of hertz या millions of cycles per second) में मापा जाता है. Mega Hertz की मात्रा जितनी अधिक होगी computer की गति भी उतनी ही अधिक होगी. आजकल pentium 4 computer की गति और काम करने की योग्यता सबसे ज्यादा है.

Conclusion 

विज्ञान के इस युग में कंप्यूटर के बिना कोई भी काम संभव नहीं है और इसके बिना यदि पुराने तरीको के काम किया जाये तो कोई भी देश बाकी देशों से पछड़ जायेगा इसलिए हर किसी को इसकी जानकारी होनी चाहिए और समय के साथ कदम से कदम मिलकर चलना चाहिए। इस उल्लेख में computer क्या है और इसके उपयोग के बारे में जानकारी शेयर की गई है.मुझे उम्मीद है आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी।

Post a Comment

0 Comments