Computer system ke Output units kya hote hai

पिछले उल्लेख में हमने computer system के input units क्या है के बारे में जानकारी शेयर की थी अब इस पोस्ट के माध्यम से हम जानेंगे computer system ke output units क्या होते है? Computer system के output units के बारे में बात करने से पहले हम system unit के बाहर वाले हिस्से में क्या होता है उसके बारे में जानेंगे.

Computer system ke Output units kya hote hai ,monitor
Computer system ke Output units kya hote hai 

System unit का बाहरी हिस्सा 


System unit के बाहरी हिस्से में computer system के input और output system units दोनों आते है जो कि hardware होते है. Computer system का output unit क्या होता है वो जानने से पहले हम system unit के सामने दिखाई देने वाले units के बारे में जानेंगे. इस हिस्से में दिखाई देने वाले अलग अलग parts और उनके काम इस प्रकार है

1. Power switch:- इसका उपयोग computer के लिए बिजली on या off करने के लिए किया जाता है.

2. Reset button:- इस बटन से आप power supply बंद किए बगैर computer को फिर से शुरू कर सकते हो.

3. Lights:- System unit के अगले हिस्से में कई किस्म की सूचक बत्तियाँ (Indicator lights) होती है जिनमें power और turbo सूत्र शामिल हैं. इन बत्तियों का उपयोग यह दर्शाने के लिए किया जाता है कि Hard Disk, Floppy disk या CD ROM को पढ़ा या लिखा जा रहा है.

4. Floppy disk drive:- इसका इस्तेमाल floppy disk जिसे deskette भी कहा जाता है उसमें जमा डाटा को पढ़ने के लिए किया जाता है. System unit में एक स्लॉट होता है जिसमें floppy disk को डाला जाता है.

5. CD-ROM Drive:- इसका इस्तेमाल CD-ROM disk में एकत्र किए गए डाटा को पढ़ने के लिए किया जाता है.

6. Removable storage Drives:- यह वो उपकरण है जिनको Computer से हटाया, निकाला या जोड़ा भी जा सकता है. Computer के साथ जोड़े जाने वाले इस उपकरण में डाटा जमा किया जाता है. उदहारण के लिए - zip disk जिसको computer से निकाला या हटाया जा सकता है. यह एक disk है जो 3.5 आकार वाली floppy disk से मिलती-जुलती है. इसमें ज्यादा मात्रा में डाटा जमा करने की योग्यता होती है. Computer system unit के बाकी बाहरी हिस्से है - CD writers, rewriters और पैन ड्राइव आदि.

ये थी computer system के बाहरी हिस्से के बारे में जानकारी अब हम computer system का output unit क्या है के बारे में बात करेंगे.

Computer system के Output units क्या होते है 


Input units द्वारा computer को जो निर्देश दिए जाते है उन निर्देशों की processing करके computer जिन devices के माध्यम से हमें result दिखाता है उन devices को computer system के output units कहा जाता है. जिसमें एक साधारण PC(Personal Computer) का Monitor और Printer आता है. हम PC के इन दो उपकरणों के बारे में ही इस पोस्ट में बात करेंगे.

मॉनिटर (The Monitor)


 मॉनिटर Computer system ke Output units का एक मुख्या अंग है. PC का मॉनिटर एक टेलीविज़न screen की तरह काम करता है. यह लिखे गए डाटा को black and white या अलग अलग रंगों में दिखाता है. मॉनिटर को कभी कभी Screen, Display या CRT (Cathode Ray Tube) भी कहा जाता है. PC में दिखाई देने वाले चित्रों की quality use की जाने वाली screen पर निर्भर करती है. यह चित्र छोटे-छोटे बिंदुओं जिनको पीक्सेल्स (Pixels) कहा जाता है उनको मिलाकर बनती है.

Keyboard के द्वारा type किया गया डाटा monitor पर दिखाई देता है. जब किसी प्रोग्राम पर काम किया जाता है तो इसमें दिए जाने वाले निर्देश monitor पर दिखाई देते है जबकि screen पर यह नतीजे तब तक अस्थाई होते है जब तक इनको Hard Disk में save ना कर लिया जाए.

आजकल market में अलग अलग तरह के monitors मौजूद है. जैसे कि monochrome (एकरंगी) monitor, color(रंगीन) monitor आदि. Monitor LCD, LED किस्म के उपलब्ध है.

Monochrome monitor और color monitor में resolution (Screen पर दिखाई देने वाले चित्रों की स्पष्टता) में अंतर पाया जाता है. Resolution जितना ज्यादा होता है monitor की कीमत भी उतनी ही अधिक होती है. हमेशा colored monitors की कीमत अधिक होती है. अधिक resolution वाले monitors का उपयोग विशेष कामों में होता है जैसे कि चित्र और graphics बनाना.

CRT monitors भी कभी बहुत लोकप्रिय हुआ करते थे लेकिन अब LED Monitors की मांग बढ़ने लगी है. इन LED Monitors की screen एक विशेष पदार्थ liquid crystal की बनी होती है. इन monitors पर दिखाई देने वाले चित्र पुराने monitors के मुकाबले अधिक स्पष्ट होते है. इसकी कीमत CRT Monitor से अधिक है लेकिन LED Monitor हलके और पतले होते है. इनमें बिजली की खपत भी कम होती है.

प्रिंटर (Printer)


प्रिंटर भी computer system के output units की श्रेणी में आता है. प्रिंटर वो उपकरण है जो कागज़ पर प्रतिकृति (संख्याएं, अक्षर, ग्राफ आदि के रूप में) बनाता है. Computer पर अपना document बनाने के बाद आप document की hard copy प्रिंट करने के लिए इसको प्रिंटर पर भेज सकते हो जिसको आमतौर पर Printout कहा जाता है. Printer की गति pages per minute (ppm) प्रिंट करने या charadters per second (cpm) प्रिंट करने के आधार पर निश्चित की जाती है. Printer के दो model काफ़ी लोकप्रिय हैं.

1. Color Printer
2. Black and White printer

Color printer:- Color printer की गति black and white printer की तुलना में कम होती है और इनकी कीमत भी अधिक होती है.

2. Black and White printer:- इनकी speed color printers से ज्यादा होती है और यह रंगीन printers की तुलना में सस्ते होते है.

साधारण तौर पर इस्तेमाल किए जाने printers की विशेषता इस प्रकार है.

DOT MATRIX:- इसकी गति 25-450 cps तक होती है और इसका मूल्य भी कम होता है. यह impact द्वारा काम करता है.

INKJET:- इसकी गति 0.5 से 4 ppm(pages per minute) होती है. इसका मूल्य color लेज़र printer से कम होता है. यह छिद्रों वाले pages पर स्याही छिड़कता है.

LESAR:- इसकी गति 4-24 ppm(pages per minute) होती है. इसकी बाकी printers की तुलना में कीमत अधिक होती है. यह एक पॉउडरनुमा स्याही का इस्तेमाल करता है.

वर्तमान समय में प्रचलित हो रहे बाकी printers हैं - LED (Light emitting Diaode) Printer और multifunctional printer. LED प्रिंटर आकार में लेज़र प्रिंटर से छोटा होता है. यह तो नाम से ही पता चलता है कि Multifunctional Printer एक से ज्यादा (Fax machine, photo copy machine, और scanner) का काम कर सकता है.

Printer कैसे लगाते है (Setting up a printer)


Computer on करने के बाद start बटन पर click करो. Screen पर top up menu दिखाई देगा.

Settings पर click करो अब एक और menu दिखाई देगा. इसमें printers वाले option पर click करो

इसके बाद add printers पर click करो. Screen पर add printer wizard बॉक्स खुल जाएगा.

अब next पर click करो.

यहां printer wizard द्वारा आपसे पूछा जाएगा कि आपका printer local है या network पर है. आप next पर click करो.

अगर आपके पास computer के साथ installation disk है तो have disk बटन पर click करो अगर नहीं तो printer के निर्माता के नाम और मॉडल पर click करो.

उस port (वो socket जिसपर आप printer का plug लगाओगे) को select करो जिसपर आप printer लगाना चाहते हो. अगर आपका computer network based नहीं है तो LPTI वाले option को select करो.

Printer का नाम type करो. अब आपसे पूछा जाएगा कि क्या आप चाहते हो कि ये आपका default printer हो अर्थात जब भी आप print out निकालना चाहो तो by default इसी printer का उपयोग हो. आप default पर click करो.

Wizard द्वारा पूछा जाएगा कि आप क्या जानने के लिए पेज़ प्रिंट करना चाहते हो. अपनी आज्ञा दो और पेज़ प्रिंट करके देख लो. अगर यह पेज़ सही ढंग से प्रिंट ना हुआ हो तो windows द्वारा आपसे कुछ और प्रशन पूछे जाएंगे साथ ही निर्देश दिए जाएंगे कि समस्याओं का हल कैसे किया जाए.

Conclusion 


ये थी एक साधारण computer पर use किए जाने वाले computer system के output units की जानकारी. हमें आशा है आपको यह पोस्ट computer system के output units क्या है पसंद आया होगा. इसके एलावा और भी computer system के output units होते है जैसे कि plotter, headphones, स्पीकर आदि उनके बारे में हम फिर कभी detail में जानकारी प्रदान करेंगे.

Post a Comment

0 Comments