Technical SEO tutorial in Hindi

अगर आप blogger हैं तो आपने Onpage और offpage SEO के बारे में अक्सर सुना होगा लेकिन हो सकता है technical SEO ये शब्द आपके लिए नया हो. जब हम अपने ब्लॉग पर कोई पोस्ट लिखते हैं तो उसे publish करने से पहले उसका onpage SEO करते हैं जिसमें keyword placement, keyword density, url setting आदि पर काम किया जाता है तांकि search engine में पोस्ट रैंक करे और off page SEO में domain की authority बढ़ाने के लिए जो काम किया जाता  है उसे offpage SEO कहा जाता है जिसमें अच्छी reputated websites से backlinks बनाना शामिल है.
Technical SEO tutorial in Hindi,technical seo kya hota hai
Technical SEO tutorial in Hindi

आप technical SEO से जुड़ी settings करते होंगे लेकिन नए bloggers को शायद पता नहीं होगा कि वो settings technical SEO का हिस्सा हैं. इसलिए इस technical SEO tutorial in hindi के इस पोस्ट में हम technical SEO के बारे बात करेंगे.

Technical SEO


Technical SEO वो प्रक्रिया है जिसमें किसी website को इस तरीके से अनुकूलित (optimize) किया जाता है जिससे किसी search engine के spiders को आपकी वेबसाइट crawl और index करने में सहायता मिलती है. Technical SEO कुछ ऐसी settings होती है जिससे आपकी website किसी search engine में रैंक करने लगती है और आपको अपनी वेबसाइट पर organic traffic (वो ट्रैफिक जो वेबसाइट पर search engine द्वारा आता है या जिस ट्रैफिक का सीधा संबंध आपके टॉपिक से हो) देखने को मिलता है.

Technical SEO और Onpage SEO में अंतर 


Technical SEO वो होता है जो पूरी website level पर किया जाता है इस technique से पूरी website को optimize करने के उदेश्य से उसकी settings की जाती है और on-page SEO उसे कहते है जो किसी website के केवल एक पेज के level पर किया जाता.पोस्ट publish करने से पहले उसका जो SEO किया जाता है जैसे कि keyword placement, density, title, H2, H3 heading tags, description आदि उसे onpage SEO कहा जाता है.

Onpage SEO किसी खास एक पेज का SEO होता है इसमें अगर कोई गड़बड़ हो भी जाए तो इससे केवल एक पेज प्रभावित हो सकता है लेकिन technical SEO में अगर कोई गड़बड़ होती है तो इससे पूरी website प्रभावित होती है जिसमें सभी पेज शामिल होते है. Technical SEO tutorial in Hindi वाले इस आर्टिकल में हम detail में जानते हैं कि इसमें कौन सी settings की जाती हैं.

Technical SEO tutorial in Hindi


Website पर की जानी वाली settings जिनको technical SEO की श्रेणी में डाला जाता है वो इस प्रकार है

1. SSL certificate 


किसी website या ब्लॉग के Technical SEO की बात की जाए तो उसके अंदर SSL certificate install होना बेहद जरुरी है. यह technical SEO का सबसे महत्वपूर्ण काम है. SSL certificate का मतलब है आपकी website https enabled होनी चाहिए अगर आपकी website http है तो आप एक बात आपको समझ लेनी चाहिए कि आपकी website google search engine में इतनी जल्दी रैंक नहीं करेगी.

Blogger में google द्वारा SSL certificate की सुविधा मुफ्त में मुहईआ करवाई जाती है जिसको blogger की settings में जाकर enable किया जा सकता है लेकिन wordpress के लिए SSL certificate paid होता है. कुछ websites पैसे लेकर SSL certificate मुहईया करवाती है जिसके बाद site को http से https enable किया जा सकता है.

यदि आप http के साथ अपनी website चला रहे है और अब उसे https enabled करने वाले है तो आपको एक बात का खास ध्यान रखना है. आपने http के साथ जो sitemap create करके google search console में submit किया था उसको remove करके https enable होने के बाद दुबारा sitemap बनाना है और उसे google search console में submit करना है.

अगर आप ऐसा नहीं करते तो google की नज़रों में आपकी website दो तरह की जाएगी एक https और दूसरी http वाली जिससे आपकी website पर duplicate content का issue आ सकता है और आपकी कई posts delete भी हो सकती हैं. इसलिए https enable करने के बाद पहला sitemap जो आपने http के साथ बनाया था उसको google search console से हटा दें और https के साथ बनाया नया sitemap submit करें.

Blogging शुरू करने के बाद आपने google search console का उपयोग जरूर करना चाहिए इससे website पर अगर कोई error आता है तो उसकी जानकारी मिलती रहती है.

2.Robot.txt file 


Robot.txt file blogger में submit करनी पड़ती है इससे search engine को बताया जाता है कि आपका कौन सा पेज गूगल में crawl होना चाहिए. इससे जिन pages को आप search engine में crawal नहीं करना चाहते उन पर प्रतिबन्ध भी लगा सकते है इस तरह ये setting भी पूरी website के level पर की जाती है इसलिए ये technical SEO की श्रेणी में आती है.

3. Website speed  


80% से ज्यादा users आजकल mobile द्वारा searches करते है इसलिए website पर उस template का use किया जाना चाहिए जो mobile friendly हो और load होने में ज्यादा समय ना लेती हो. Mobile friendly templates को अगर समझना हो तो इसमें यह देखा जाता है कि website को अगर mobile में search किया जाए तो mobile पर वो load होने में कितना समय लगाती है और pages का look कैसा दिखता है.Heavy templates देखने में आकर्षक जरूर होती है लेकिन इनका सबसे बड़ा नुकसान यही है इनका use करने से website की ranking गिर जाती है. Google search engine में रैंक करने के लिए जिन चीजों पर खास ध्यान देने की जरुरत होती है उनमें से website की speed एक major factor माना जाता है.Heavy templates use करने website की speed कम हो जाती है.

4. Website design 


Website को आकर्षक दिखाने के लिए अक्सर कुछ लोग उस पर बहुत सारे animations का use करते है और कई तरह के extra बटन लगा देते है जो हो सकता है आपकी नज़र में तो ठीक हों लेकिन गूगल के SEO के हिसाब से ये आपकी website पर negative effect डालते है.

Website का design बिलकुल simple होना चाहिए जिसकी background बिलकुल white हो और उस पर किसी किस्म की image नहीं लगानी चाहिए जिससे website या ब्लॉग की speed कम हो. जितनी भी बड़ी websites है वो simple white background use करती है उनका focous सिर्फ text पर होता है जिसे लोग आसानी से पढ़ सके इसीलिए वो गूगल में रैंक करती है.

5. Important pages के url 


Website पर About us, contact us जैसे कुछ जरुरी पेज बनाए जाते है जिनसे website और इसके संचालक के बारे में जानकारी मिलती है लेकिन कुछ लोग about us का पेज बनाते समय उसका url कुछ इस तरीके से set कर देते है "know me more" या contact us का url कुछ ऐसे बना दिया जाता "get in touch" जो बिलकुल गलत है.

अगर आपने about us का पेज बनाया है तो उसका url भी about us ही होना चाहिए और contact us पेज में भी ऐसे ही करना है.

6. Proper navigation


Website या ब्लॉग पर कोई custom template अपलोड करने के बाद उसकी editing बड़े ध्यान से करनी चाहिए जिससे website की navigation ना बिगड़े. Menu bar में अगर कोई एक category पर click करे और वो पहुँच किसी और category में जाए ऐसा नहीं होना चाहिए.

अगर navigation नहीं की जाती तो इससे adsense का approval नहीं मिलता और 'website under construction' का error बताकर आपकी application reject कर दी जाती है.

Conclusion 


उम्मीद है आपको technical SEO tutorial in hindi वाले इस पोस्ट के माध्यम से जानकारी मिल गई होगी कि technical SEO क्या होता है? इसमें कुछ एक example देकर technical SEO के बारे में बताया गया है इस श्रेणी में और भी settings आती है जिनके बारे में आपको यह पोस्ट पढ़कर अंदाज़ा लग गया होगा. अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो शेयर करना ना भूले.

Post a Comment

0 Comments