ओटीपी का फुल फॉर्म - OTP ka full form

Internet का विकास होने की वजह से पूरी दुनिया ऑनलाइन services की और अग्रसर हुई है जिसकी वजह से लोग अपने अधिकतर काम जैसे कि बैंकिंग, shopping, marketing आदि internet पर ही करने लगे है. जो कंपनियां अपनी websites के माध्यम से ये सारी सुविधाएं प्रदान करवाती है वो यूजर की सुरक्षा को पुख्ता बनाने के लिए OTP का इस्तेमाल करती है. अगर आप भी ऑनलाइन सेवाओं का उपयोग करते है तो आपको OTP से जुड़ी basic जानकारी जरूर होनी चाहिए.

इस आर्टिकल में हम आपको OPT से सम्बंधित जानकारी देने जा रहे है जैसे कि OTP क्या है, OTP ka full form, ओटीपी का मतलब क्या है, ओटीपी नंबर कैसे प्राप्त करें आदि. सबसे पहले जानते है OTP ka full form क्या है?

otp ka full form
OTP ka full form


OTP ka full form 


OTP का फुल फॉर्म "One time password" होता है इसको "One time pin" के नाम से भी जाना जाता है. OTP 4 से लेकर 8 अंकों वाला एक code होता है लेकिन अधिकतर websites verification के लिए 6 अंकों वाला OTP code इस्तेमाल करती है.

ओटीपी का मतलब क्या है? 


हिंदी में अगर OTP का अनुवाद किया जाए तो कहा जा सकता है कि OTP एक ऐसा पासवर्ड होता है जिसका उपयोग केवल एक बार ही किया जाता है. 

OTP 10 सेकंड से लेकर 30 मिनट के लिए ही उपयोग करने के लायक होता है. Time out होने के बाद OTP किसी काम का नहीं रहता, यह expire हो जाता है. यदि आप कोई transaction या verification करना चाहते है तो उसके लिए आपको दोबारा OTP generate करना होगा. यह सब नियम यूजर की सुरक्षा को ध्यान में रखकर बनाए गए है तांकि कोई दूसरा व्यक्ति आपके अकाउंट का उपयोग करके आपको चूना ना लगा जाए.

ओ टी पी क्या है? 


आसान भाषा में कहा जाए तो OTP कुछ अंको वाला ऐसा पासवर्ड या code है जो किसी ग्राहक को सुरक्षा प्रदान करता है, इसका उपयोग एक खास time limit के अंदर ही किया जा सकता है और पासवर्ड बदलने, verification करते समय या कोई online transaction करते समय हर बार एक नया OTP generate होता है. यह हमारे प्राराम्परिक पासवर्ड के सामान एक जैसा नहीं रहता. 

Internet पर ऑनलाइन services मुहईया करवाने वाली कंपनियों की websites OTP का इस्तेमाल इसलिए करती है तांकि सही यूजर की पहचान की जा सके. 

अब आप समझ गए होंगे ओ टी पी क्या है और OTP ka full form क्या है? अब हम जानेंगे OTP नंबर कैसे प्राप्त करें? 

ओटीपी नंबर कैसे प्राप्त करें


ओटीपी नंबर मुख्य तौर पर तीन तरीकों से प्राप्त किया जा सकता है जो इस प्रकार हैं 

1. SMS OTP

2. Voice call OTP 

3. Email OTP

1. SMS OTP:- SMS OTP वो होता है जो आपको अपने मोबाइल नंबर पर message के माध्यम से प्राप्त होता है. OTP प्राप्त करने के लिए इस तरीके का सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाता है. जब अपने sim card ख़रीदा होगा तब अपने इस तरीके से ही अपना नंबर verify किया होगा।

2. Voice call OTP:- OTP प्राप्त करने का यह वो तरीका है जिसमें service provider यूजर के फोन पर voice call करके code प्राप्त करते है. यह सबसे कम उपयोग किया जाने वाला तरीका है. 

3. Email OTP:- इसमें कोई वेबसाइट आपकी email id पर code भेजती है. इस तरीके का इस्तेमाल तक़रीबन सभी तरह की websites करती हैं. Social media websites जैसे कि facebook, instagram, twitter, quora आदि इन सभी पर जब आप अपना खाता बनाते हो या पासवर्ड भूल जाने पर उसे recover करते हो तो email के माध्यम से आप OTP प्राप्त कर सकते हैं.

Online services मुहईआ करवाने वाली websites OTP का इस्तेमाल इसलिए करती है तांकि पता लगाया जा सके कि आप खुद ही अपने खाते का इस्तेमाल कर रहे है. आपके registered मोबइल नंबर और ईमेल id की access आप तक ही सीमित होती है जिससे यह confirm हो जाता है कि आप खुद अपने accounts का उपयोग कर रहे है. 

मेरा ओटीपी नंबर क्या है


किसी भी व्यक्ति का कोई निश्चित OTP नंबर नहीं हो सकता जैसे कि आपके किसी अकाउंट का पासवर्ड होता है क्योंकि OTP एक automated generated code है जो हर transaction या login verification करते समय, social accounts बनाते समय या ATM का पासवर्ड बदलते समय हर बार आपको कुछ digits का नया code मिलता है जिसको आप अपने मोबाइल नंबर या email id पर प्राप्त करते है. 

Uses of OTP 


जबसे OTP आया है तब से internet पर सुरक्षा काफ़ी बढ़ चुकी है. Hackers के लिए किसी के accounts हैक करना काफ़ी मुश्किल हो गया है. 

इस सुविधा से कोई दूसरा व्यक्ति आपके account का उपयोग या छेड़छाड़ नहीं कर सकता और यदि उसके पास आपका username और पासवर्ड पहुँच भी गया है तो भी वो व्यक्ति आपका अकाउंट इस्तेमाल नहीं कर पाएगा क्योंकि कोई भी transaction या verification करते समय जो OTP generate होता है वो या तो आपकी email id पर आता है या आपके registered मोबाइल नंबर पर. 

आपके अकाउंट में अगर आपकी इच्छा के बगैर कोई हलचल होती है तो उसकी जानकारी OTP की सहायता से तुरंत आपको मिल जाएगी. Amazon, flipcart, snapdeal जैसी online shopping websites OTP का इस्तेमाल करती है यह सब आपकी सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए किया जाता है. 

How to use OTP


आप OTP का उपयोग विभिन्न प्रकार से कर सकते है जैसे कि 

Confirm online Transactions 

Net Banking के माध्यम से कोई transaction करते है समय हमें अपने अकाउंट में username और पासवर्ड भरना पड़ता है जिसके बाद बैंक की वेबसाइट द्वारा हमें अपने registered मोबाइल नंबर या ईमेल पर 6 अंकों वाला OTP मिलता है. OTP भरने के बाद ही transaction की प्रक्रिया सफल होती है. इससे हमारा अकाउंट safe रहता है. 

Change password 

अगर कोई व्यक्ति अपने किसी social media अकाउंट या ATM कार्ड का पासवर्ड भूल जाए या अपनी इच्छा से पासवर्ड बदलना चाहे तो उसके लिए भी मोबाइल या email id पर OTP भेजा जाता है. यह सब इसलिए किया जाता है तांकि कोई दूसरा व्यक्ति आपके accounts के साथ छेड़ छाड़ ना करे. 

Login verification 

किसी वेबसाइट या social media अकाउंट पर पहली बार login होते समय यूजर से OTP कोड के माध्यम से उसकी पहचान की पुष्टि की जाती है जो किसी भी यूजर की सुरक्षा के लिए बहुत फायदेमंद है.

Online payments

Online shopping करते समय डेबिट या क्रेडिट कार्ड की details भरी जाती है. अकाउंट से पैसों का भुगतान तभी हो पाता है जब registered मोबाइल नंबर पर प्राप्त हुआ OTP डाला जाता है. 

Precautions 


अगर आप internet के माध्यम से मिलने वाली online सेवाओं का इस्तेमाल करते है तो एक बात का हमेशा ख्याल रखें कि अपना बैंक खाता और email id अपने निजी मोबाइल नंबर से ही रजिस्टर करें. 

आपना मोबाइल हमेशा अपने पास रखें और ईमेल अड्रेस का पासवर्ड अपने तक ही गोपनीय रखें यदि ये किसी के हाथ लग गए तो आपके username और पासवर्ड का जानकर व्यक्ति आपके accounts का जैसा चाहे वैसे उपयोग कर सकता है. 

 इसलिए online services का लाभ उठाने के लिए कुछ सावधानियां भी बरतनी पड़ती है. 

Conclusion

इस आर्टिकल के माध्यम से OTP के बारे में पूरी जानकारी मुहईआ करवाने की कोशिश की गई है जैसे कि OTP ka full form, OTP क्या है इसके उपयोग क्या हैं आदि. आशा करते हैं यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा और आपको कुछ नया सिखने को मिला होगा।

Post a Comment

0 Comments