अरब देशों में इस्लाम पर भद्दी टिप्पणियाँ करने वाले हिन्दुत्ववादियों को अब नहीं छोड़ेगी अरब सरकार

खाड़ी के बहुत सारे ऐसे देश हैं जहाँ करोड़ों की संख्या में भारतीय काम करते हैं जिसमें हिंदू, सिख, मुस्लिम और ईसाई सभी धर्मों के लोग शामिल हैं लेकिन कुछ हिंदुत्ववादी लोग वहां इस्लाम के खिलाफ tweets कर रहे हैं जिसके कारण भारत में मुसलमानों के खिलाफ नफ़रत बढ़ रही है. हिंदुत्ववादी लोगों की इन हरकतों पर अब वहां की सरकार की नज़र पड़ गई है जिस वजह से अब ऐसे लोगों को पकड़ा भी जा रहा है क्योंकि जिस देश में ये लोग कमा कर खा रहे हैं उसी को बदनाम कर रहे है जिस देश का धर्म ही इस्लाम है.



सऊदी अरब के एक विद्वान जिनका नाम आबिदी हिरानी है उनका कहना है कि हिंदुत्व के जो लोग खाड़ी के देशों में बैठकर इस्लाम के खिलाफ और अपने ही देश के मुसलमानों के खिलाफ नफरत फैला रहे हैं बेहतर यही होगा कि उन सभी को खाड़ी के देशों से निकलकर भारत वापिस भेज दिया जाए. उन्होंने ट्विटर पर एक हैश टैग भी शुरू किया है #Send_hindutva_back_home जो ट्विटर पर वायरल भी हो रहा है.

अकेले सऊदी अरब में 63 लाख भारतीय लोग ऐसे है जो मुस्लिम नहीं है और इनमें बहुसंख्या हिन्दुओं की है, इसी तरह ओमान में 16 लाख भारतीय ऐसे है जो मुस्लमान नहीं है, कतर में 13 लाख, बहरीन में 9 लाख non-muslim और दुबई में भी 9 लाख ऐसे लोग है जो गैर-मुस्लिम है भारतीय जाहिर है इसमें भी बहुसंख्या हिन्दुओं की है और अपनी रोज़ी रोटी कमाने इन देशों में गए हुए है लेकिन वहां बैठे कुछ हिंदुत्ववादी लोग नफरत फैला रहे है जिसकी वजह से बाकी शरीफ लोग भी बदनाम हो रहे है. यहां हम आपको भारतीय हिन्दुत्ववादियों के कुछ tweets दिखाते है जिनपर वहां की सरकार की प्रतिक्रिया आई है.

पहला ट्वीट सुनील उपाधयाय नामक एक शख्स का है जो दुबई में रहता है और अक्सर अपने ट्विटर हैंडल पर मुसलमानों और इस्लाम के खिलाफ जहर उगलता रहता है. इनमें से एक का स्क्रीनशॉट नीचे दिया गया है जिसमें वो लिखता है कि 95% मुस्लिम महिलाओं ने पिछले सैंकड़ो सालों से जो बच्चे पैदा किए हैं वो प्यार का नहीं केवल संभोग का नतीजा हैं. इसी तरह मुसलमानों को निशाना बनाते हुए उसने और भी कई tweets किए है जो आप देख सकते है.

इस पर वहां की एक राजकुमारी Hend Al Quassimi ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि इस तरह के सम्प्रदायक नफरत फैलाने वाले लोगों को जुर्माना करके उनको दुबई से वापिस भारत भेज दिया जाएगा. उन्होंने आगे एक और ट्वीट में लिखा है कि भले ही शाही परिवार के भारत के साथ दोस्ताना रिश्ते है लेकिन आपके अंदर पल रही नफरत स्वीकार नहीं की जाएगी. यहां कोई मुफ्त में नहीं आता, काम के बदले पैसे दिए जाते है जिससे उनकी रोज़ी रोटी चलती है और आपके अंदर उसी देश के धर्म के खिलाफ नफरत को नजरअंदाज़ इस देश में नजरअंदाज नहीं किया जाएगा.


वहीं अरब के एक शेख ने कहा है अगर मुसलमानों पर ऐसे ही लगातार हमले होते रहे तो सभी मुस्लिम देश भारत से आने उत्पादों का बाइकाट कर देंगे. अरब देशों में हिंदुत्ववादियों की शनाख़्त होने के बाद भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करके कहा है कि Covid-19 जब हमला करता है तो यह किसी का धर्म, नस्ल, रंग, भाषा और सीमा देखकर नहीं करता है. इसके खिलाफ हमें एकता और भाईचारे के साथ लड़ना चाहिए हालांकि सीएए के खिलाफ जब देश में विरोध प्रदर्शन हो रहे थे तो खुद प्रधान मंत्री ने मुसलमानों के खिलाफ नस्ली टिप्पणी करते हुए उनके कपड़ों से पहचान करने की बात कही थी.


कोरोना वायरस महांमारी के चलते भारत में जब से लॉकडाउन की शुरुआत हुई है तब से भारतीय मिडिया मुसलमानों के खिलाफ़ मुहीम चलाकर उनको बदनाम करने में लगा है. मिडिया द्वारा कोरोना वायरस को भी भारत में सम्प्रदायक रंग देकर islamophobia फैलाया जा रहा है.

टीवी के माध्यम से फैलाई जा रही इस नफ़रत का आम लोगों खासकर जो हिंदू धर्म से सम्बन्ध रखते है उनपर असर देखने को मिलता है जिसकी वजह से वो अपने सोशल एकाउंट्स पर इस्लाम के खिलाफ़ नफ़रत भरी टिप्पणियाँ करने लगते है. इस बात का पता अरब देशों की सरकार को चल चुका है. उन्होंने अरब देशों में रह रहे हिन्दुओं जो इस्लाम पर भद्दी टिप्पणियाँ करते है उनकी शनाख़्त करनी शुरू कर दी है. शनाख़्त के बाद दोषी पाए जाने वाले हिन्दुओं को जुर्माने के साथ-साथ डिपोर्ट करके भारत भेज दिया जाएगा.

दुबई में फसा सोनू निगम भी निशाने पर 

बॉलीवुड फ़िल्म गायक सोनू निगम lockdown के चलते दुबई में फंसे हुए है. उन्होंने कुछ साल पहले अपने ट्विटर अकाउंट पर मुसलमानों की अज़ान पर टिप्पणी करते हुए कहा था कि आखिर भारत में यह कब तक चलता रहेगा? जिस धर्म का भारत से कोई सम्बन्ध नहीं है उसकी वजह से लोगों को कब तक परेशानी होती रहेगी. उन्होंने आगे लिखा कि मस्जिद में सुबह जब अज़ान पढ़ी जाती है तो लाऊडस्पीकर की आवाज़ से उनकी नींद खराब हो जाती है.

सऊदी के एक शेख द्वारा उनके इन पुराने tweets के screenshots शेयर करके दुबई सरकार से उसपर कार्यवाई करने को कहा है.यह पता चलते ही सोनू निगम की नींद उड़ गई और उन्होंने इंडिया टीवी पर दिए एक इंटरव्यू में दुबई और अज़ान के कसीदे पढ़ दिए. उन्होंने अपनी बात से पलटते हुए कहा कि मैं दुबई में रहता हूं सुबह सुबह जब अज़ान की आवाज़ मेरे कानों में पड़ती है तो बहुत मधुर लगती है. 

Post a Comment

0 Comments